Santan gopal mantra

संतान गोपाल मन्त्र

 

बच्चे भगवान की सबसे प्यारी और खूबसूरत देन हैं और बच्चों से ही घर में रौनक होती है मगर कुछ ऐसे भी परिवार हैं जो इस औलाद के सुख से वंचित है | कई लोगो में देखा गया है की शादी के कई साल बीत जाने के बाद भी उनके घर बच्चा नहीं होता और इस चक्कर में वो कई डॉक्टरों से इलाज भी करवाते है और बहुत सा धन भी खर्च कर देते हैं मगर नतीजा फिर भी कुछ नहीं निकलता | कई बार इंसान के नक्षत्र और ग्रह ही ऐसे होते है की उनकी कुंडली में औलाद योग होता ही नहीं है और वो इसको शारीरिक कमी समझ लेते हैं और बड़े बड़े हस्पतालो में पैसा खर्च करके भी औलाद से वंचित रहते हैं | |
 
हमारे वेदो शास्त्रों में बहुत ही अचूक टोटके बताये गए है जिनको करने से संतान प्राप्ति संभव हो सकती है | अगर हम ज़िंदगी में देखे की इंसान के मरने के बाद उसका नाम और वंश कायम रखने के लिए वो दुनिया में औलाद ही छोड़कर जाता है और अपने वंश को आगे बढ़ाने के लिए पुत्र का होना तो आवश्यक है | पुत्र प्राप्ति योग बनाने के लिए और संतान प्राप्ति के लिए सबसे शक्तिशाली मन्त्र है संतान गोपाल मन्त्र | इस मन्त्र के इस्तेमाल करने से जिस भी घर में औलाद नहीं है उस घर में औलाद हो जाएगी और जो पति पत्नी इस मन्त्र का इस्तेमाल दी गयी विधि से करेंगे उनके घर में पुत्र अवश्य होगा | इस मन्त्र को इस्तेमाल करने से पहले इस मन्त्र को पहले सिद्ध किया जाता है मगर आप अभिमंत्रित संतान गोपाल यंत्र भी इस्तेमाल कर सकते हैं ||

 

संतान गोपाल मन्त्र किस लिए इस्तेमाल किया जाता है ??

 

|| निचे संतान गोपाल मंत्र की विधि दी हुई है कृपा उसे इस्तेमाल करने से पहले उसे ध्यान से पढ़ लें क्योंकि इस विधि में गलती की कोई गुंजाइश नहीं है ||

 

संतान प्राप्ति के लिए :

 

अगर शादी के काफी समय बाद भी आप के संतान नहीं हो रही है चाहे वो किसी शारीरिक कमजोरी के कारण नहीं हो रही और या फिर ग्रहो की वजा से नहीं हो रही ऐसे में इस मन्त्र का प्रयोग करके संतान प्राप्त कर सकते हैं ||

 

पुत्र प्राप्ति के लिए :

 

हमारे कुल को आगे पुत्र ही बढ़ाता है और एक पिता की आत्मा को तभी शांति मिलती है जब उसका पुत्र उसके पार्थिव शरीर को आग लगता है ऐसे हमारे वेदों में भी लिखा हुआ है | संतान गोपाल मन्त्र का इस्तेमाल करके आप बहुत जल्द पुत्र प्राप्त कर सकते हैं ||

 

अगर किसी ने आपकी कोक बाँधी गयी है उस बंधन को तोड़ने का लिए :

 

कई बार किसी से नफ़रत होने की वजह से या फिर दुश्मनी की वजह से लोग कला जादू करके किसी भी स्त्री की कोक बांध देते है फिर उस स्त्री के कभी बच्चा नहीं होता तो ऐसे बंधन को तोड़ने के लिए संताब गोपाल मन्त्र सक्षम है ||

 

|| अगर आप इस विधि से जुड़ी कोई भी जानकारी या नई विधि सीखना चाहते है तो लाइक करे हमारे फेसबुक पेज को – क्लिक करे यहाँ ||

 

प्रसव में तकलीफ न होने के लिए :

 

अगर आप माँ बनने वाली है और चाहती है की प्रसव के दौरान आपको ज्यादा तकलीफ न उठानी पड़े और प्रसव में किसी भी तरह की अड़चन न आये तो आप संतान गोपाल मन्त्र का इस्तेमाल कर सकती हैं ||

 

हृष्ट पुष्ट संतान पैदा होने के लिए :

 

हर कोई चाहता है की उसका बचा तंदुरुस्त पैदा हो इस कामना को भी संतान गोपाल मन्त्र पूरी करता है और इसको इस्तेमाल करके आपको और आपके बचे को भी तंदुरुस्ती मिलती है ||

 

अगर किसी ग्रह दोष की वजह से संतान नहीं हो रही तो उस दोष को ख़त्म करने के लिए :

 

कई बार हमारे ग्रह नक्षत्रो में ही कोई दोष होता है और हम शारीरिक कमी समझ कोर उस तरफ ध्यान ही नहीं देते तो संतान प्राप्ति में आने वाली हर दोष को दूर करने के लिए भी गोपाल मन्त्र का इस्तेमाल किया जा सकता है ||

 

|| सबसे खतरनाक शाबर सिद्ध मंत्र जो कर देंगे आपकी हर इच्छा को पूरी ||

 

संतान गोपाल मन्त्र की विधि के लिए आवश्यक सामग्री :

 

(1) एक श्री कृष्ण का बाल रूप का चित्र या मूर्ति ||

 

(2) थोड़े से फूल और फल ||

 

(3) सफ़ेद माखन ||

 

(4) चन्दन ||

 

(5) तुलसी की 108 मणकों वाली माला ||

 

(6) एक बांसुरी ||

 

(7) देसी घी का दीपक ||

 

(8) अगरबत्तीआं ||

 

|| गोमती चक्र के 10 चमत्कारी रहस्य जो कर देगें आपकी हर इच्छा पूरी – जानने के लिए क्लिक करे यहाँ ||

 

संतान गोपाल मन्त्र विधि :

 

(1) सबसे पहले दंपत्ति नहा धोकर सफ़ेद कपडे पहन लें ||

 

(2) फिर घर के मंदिर में श्री कृष्ण जी के बाल रूप की मूर्ति स्थापित करें ||

 

(3) मूर्ति के साथ ही संतान गोपाल यंत्र भी रख दें ||

 

(4) अब मूर्ति का अभिषेक चन्दन से करें ||

 

(5) उसके बाद भगवान जी के आगे फल और फूल अर्पित करें ||

 

|| दुनिया के 5 सबसे खतरनाक और असरदार वशीकरण मंत्र जो कर देंगे हर किसी को वश में – जानने के लिए क्लिक करे यहाँ ||

 

(6) अब उनको माखन का भोग लगाएं ||

 

(7) मूर्ति के आगे देसी घी का दीपक जला लें ||

 

(8) उसके बाद मूर्ति के आगे कुछ अगरबत्तीआं जला लें ||

 

(9) अब नीचे दिए गए मन्त्र को तुलसी की माला के एक चक्र का जाप ||

 

|| मन्त्र : ||

 

“ ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं देवकीसुत गोविन्द वासुदेव जगत्पते देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गतः ”

 

(10) मन्त्र जाप के बाद मूर्ति के आगे बांसुरी अर्पित करें ||

 

(11) माखन को प्रसाद रूप में दंपत्ति रात के भोजन के साथ ||

 

|| नोट :- यह विधि दंपत्ति ने पत्नी की माहवारी ख़त्म होने के बाद वाले पहले वीरवार को शुरू करनी है और उस दिन तक हर वीरवार को करनी है जब तक अगली माहवारी नहीं होती और माहवारी ख़त्म होते ही दंपत्ति प्रसाद वाला माखन खाकर सहवास करें | अगर वीरवार के दिन ही माहवारी शुरू होती है तो उस वीरवार को इस विधि को न करें ||

 

इस विधि को करने के लिए कुछ जरुरी जानकारी :

 

(1) विधि के समय पति पत्नी दोनों ही सफ़ेद कपडे पहने ||

 

(2) हर विधि में नयी बांसुरी चांदनी है और बाद में उसको श्री कृष्ण मंदिर में दे आनी है ||

 

(3) जब बांसुरी मंदिर में देने जाए तो उसके साथ सफ़ेद तिल और गुड़ का भी दान करें ||

 

(4) माखन घर पर निकाला हुआ ही इस्तेमाल ||

 

(5) विधि हर वीरवार एक ही समय करें ||

 

|| अगर आपका कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है ||