केमद्रुम योग ( Kemdrum Yoga)

 

केमद्रुम योग (Kemdrum Yoga)

 

जब किसी जातक की कुंडली में चंद्र ग्रह के अगले घर और पिछले घर में कोई ग्रह नहीं हो तो केमद्रुम योग बनता है || जैसे चन्द्रमा बाहरवें घर में हो तो उस घर में सूर्य नहीं आना चाहिए यदि वाहरवें घर में सूर्य आ जाये तो चन्द्रमा का बल कमजोर हो जाता है  और फिर चन्द्रमा लाभ नहीं दे पाता है न ही शुभता का लाभ होता है और न ही अशुभता से हानि होती है || सूर्य के बिना और कोई भी ग्रह आ जाये तो उसे अनफा योग कहते है || और अगर दोनों ओर ग्रह हों तो उसे दुरुधरा योग कहते है || और अगर चंद्र ग्रह के अगले घर और पिछले घर में कोई ग्रह नहीं हो तो केमद्रुम योग बनता है ||

 

 

उपाय

 

|| मांगलिक ( कुजा )दोष से बचने के सबसे आसान और चमकारी उपाय – जानने के लिए क्लिक करे यहाँ ||

 

1. जिस व्यक्ति की कुंडली में केमद्रुम योग है तो उसे अकेले नहीं रहना चाहिए जब इस ग्रह का व्यक्ति अकेला रहता है तो उसके मन और मस्तिष्क में बुरे विचार आने लगते हैं क्योकि चन्द्रमा मन का स्वामी है और व्यक्ति मानसिक रूप से पीड़ित भी हो सकता है और योग की प्रबलता के अनुसार मानसिक संतुलन बिगड़ भी सकता है क्योकि कुंडली के घर में जब चन्द्रमा अकेला होता है तो ये योग बनता है ||

 

2. केमद्रुम योग के जातको को पूर्णिमा के उपवास करने चाहिए जब सोमबार के दिन पूर्णिमा आये तब उस दिन से पूर्णिमा के उपवास प्रारम्भ करने चाहिए जातक को उपवास लगातार 4  वर्ष तक करने चाहिए ||

 

3. सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए और गाये का कच्चा दूध शिवलिंग पर “ॐ नमः शिवाये” का जाप करते हुए चढ़ाना चाहिए ||

 

4. बहते हुए पानी में जौं प्रवाह करे इस से आपको बहुत लाभ होगा ||

 

5. केमद्रुम योग वाले व्यक्तियों को वर्ष में एक बार दशांश हवन करना चाहिए ||

 

6. घर में दक्षिणाव्रती शंख स्थापित करना चाहिए तथा इसकी पूजा करनी चाहिए ||

 

|| ये मंत्र कर देगा आपकी पुत्र संतान की इच्छा पूरी – जानने के लिए क्लिक करे यहाँ ||

 

7. अपने जन्म दिवस पर महामृत्युंजय मंत्र का 108  बार जप करना चाहिए ||

 

8. दो मुखी, चार मुखी और पांच मुखी का कोई भी एक रुद्राक्ष लेकर, रुद्राक्ष मंतर से अभिमंत्रित कर के उसका लॉकेट बना कर सोमबार के दिन धारण इस से भी आपको बहुत लाभ होगा ||

 

9. बीसा यंत्र को अभिमंत्रित कर के अपने घर में रखें या मूंगा नग चाँदी की अंगूंठी बना कर अनामिका ऊँगली में धारण करें ||

 

लक्षण

 

1. केमद्रुम योग वाले व्यक्ति हमेशा अकेला रहता है और इनका मानसिक संतुलन भी ठीक नहीं रहता है ।।

 

सकारात्मक

 

1. केमद्रुम योग वाले लोगों का जीवन संघर्ष और अभाव ग्रस्त जीवन होता है ।।

 

2. हमारे देश की प्रथम महिला आईपी. एस किरण बेदी योग भी केमद्रुम योगों के कारण राजयोग में परिवर्तन हुआ है ।।

 

|| केमद्रुम योग से जुड़ी नयी नयी जानकारी के लाइक करे हमारे फेसबुक पेज को – क्लिक करे यहाँ ||

 

नकारात्मक

 

1. केमद्रुम योग वाले लोगों का जीवन संघर्ष और अभाव ग्रस्त जीवन होता है ||

 

2. केमद्रुम योग वाले व्यक्ति का जीवन बहुत दुःखमय का और आर्थिक स्थिति से बहुत गरीब होता है ।।

 

3. इस योग वाले व्यक्ति को आजीविका संबधी कार्यो में परेशानियों का सामना करना पड़ता है ।।

 

4. इस योग वाले व्यक्तियों का मन भटका हुआ तथा असंतुष्ट स्थिति  बनाये रखता है ।।

 

5. इस योग वाला व्यक्ति हमेशा दूसरों पर निर्भर रहता है ।।

 

6. केंद्रुम योग में जातक अपने घर परिवार से दूर रहता है ।।

 

|| कैसे करें अपनी सभी इछाये पूरी सिर्फ एक चक्र से – जानने के लिए क्लिक करें यहाँ ||

 

केमद्रुम योग कैसे खत्म होता है ??

 

1. केमद्रुम योग में जातक की कुंडली में चन्द्रमा के दूसरे घर और चौथे घर में कोई भी ग्रह न हो तो तब भी ये योग भंग हो जाता है ।।

 

2. यदि चन्द्रमा के साथ बुध ग्रह, गुरु ग्रह या शुक्र ग्रह साथ बैठते है तो भी ये योग भांग हो जाता है ।।

 

3. अगर चन्द्रमा से अलावा केंद्र में  कोई भी ग्रह हो तो ये योग भंग हो जाता है ।।

 

4. चन्द्रमा पर अगर गुरु की दृष्टि हो तो भी यह योग भंग हो जाता है ।।

 

5. बीसा यंत्र को अभिमंत्रित कर के अपने घर में रखें या मूंगा नग चाँदी की अंगूंठी बना कर अनामिका ऊँगली में धारण करें ।।

 

|| अगर आपका कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है ||

 

मांगलिक ( कुजा ) दोष

 

क्या मांगलिक ( कुजा ) दोष ??

 

मंगलीक दोष को कुजा दोष भी कहा जाता है और यह दोष मंगल की बजह  से कुंडली में बनता है  यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में  मंगल पहले, दूसरे, चौथे, सातवें, आठवें या बाहरवें घर में हो वह व्यक्ति मंगलीक होता है ।।

 
manglik ( kuja ) dosh
 

लक्षण

 

1. मांगलिक को उग्रता हुआ ग्रह माना गया है इस ग्रह के लोगो का स्वभाब उग्र होता है।।

 

2. मांगलिक दोष होने के कारण विवाह में परेशानियाँ आती है लम्बे समय तक विवाह नहीं होता है अगर हो जाये तो शादी शुद्धा जीवन में परेशानियाँ आती है ।।

 

3. ऐसा माना जाता है जिन लोगों ने अपने पिछले जन्म में अपने वर या बधु के साथ गलत किया हो तो यह दोष लगता है ।।

 

4. रक्त रोग जैसी समस्याएँ आती है ।।

 

5. इससे मानसिक रूप से कष्ट होता है ।।

 

6. इस ग्रह से आत्म विश्वास और साहस में कमी आती है ।।

 

उपाय:

 

1. गुण मिलाये बिना विवाह नहीं करना चाहिए उचित गुण  मिलने पर ही विवाह करे इस से मंगलीक दोष काटता है ।।

 

2. हर मंगल बार को 21 बार मंगल का जाप करे ॐ अं अंगारकाय नमः ।।

 

3. लाल मिर्च सेवन करना छोड़ दे क्योकि लाल रंग मंगलीक को उत्तेजित करता है ।।

 

4. अगर लड़के लड़की दोनों की कुंडली में  मंगलीक दोष हो तो यह ग्रह दूर  हो जाता है  ।।

 

5. शादी करने से पहले लड़के लड़की का कुज्ज विवाह करवाना चाहिए, यह विवाह पीपल के पेड़ से होता है इससे मंगलीक ग्रह दूर होता है ।।

 

6. मंगल बार के दिन उपवास रखना चाहिए इस से भी यह ग्रह दूर होता है और साथ में हनुमान चालीसा का जाप करे ।।

 

7. स्त्रियों को  पार्वती मंगला का पथ करना चाहिए इस से मंगल दोष दूर होता है ।।

 

8. इस ग्रह वाले लोगों का विवाह 28  साल बाद करवाना चाहिए 28  साल के बाद यह ग्रह का दोष कम हो जाता है ।।

 

9. अपने घर  के मंदिर में मंगलीक यंत्र की स्थापना करे और हर रोज इसकी पूजा करे इस से मंगलीक दोष दूर होता है ।।

 

10. बंदरों और कुत्तों को गुड़ और आटे से मीठी रोटी बना कर खिलाएं ।।

 

11. अगर आपके बच्चों को कोई परेशानी आ रही हो तो नीम के पेड़ लगवाएं ।।

 

12. पितरों की पूजा करे और उनका आशीर्वाद लें ।।

 

13. भगवान् शिव की पूजा करें ।।

 

क्या मांगलिक दोष से जीवन खत्म हो जाता है ??

 

इस दोष के प्रति लोगों में विभिन्न प्रकार की भ्रांतियां है इस ग्रह वाले लोगों के जीवन में परेशानियाँ तो आती है परन्तु उन परेशानियों को दूर करने के कुछ उपाए भी है जिस से ये दोष कम हो सकता है परन्तु हट नहीं सकता ।।

 

क्या मांगलिक दोष वाले व्यक्ति को मांगलिक दोष वाले व्यक्ति से ही शादी करनी चाहिए ??

 

नहीं ऐसा कुछ नहीं है एक मंगलीक ग्रह वाला व्यक्ति किसी अन्य ग्रह वाले व्यक्ति से शादी कर सकता है परन्तु इसके लिए कुछ उपाए है जो करने पड़ते है जिस से मंगलीक ग्रह दूर हो जाता है और अगर किसी लड़के की कुंडली में मंगल पहले, दूसरे, चौथे, सातवें, आठवें या बारवें घर में हो और लड़की की कुंडली में पहले, दूसरे, चौथे, सातवें, आठवें या बाहरवें घर में शनि हो तो मंगलीक कट जाता है जिस से वह दोनों विवाह कर सकते है ।।

 

|| कैसे करें अपनी सभी इछाये पूरी सिर्फ एक चक्र से – जानने के लिए क्लिक करें यहाँ ||

 

क्या जिस व्यक्ति की कुंडली में मांगलिक दोष है वह अपने जीवन में कभी सफलता नहीं प्राप्त कर सकता ??

 

नहीं ऐसा कुछ नहीं है इस दोष से आर्थिक समस्याएं तो आती है पर इस समस्याओं को दूर करने के कुछ उपाये भी है जिन से हम छुटकरा पा सकते है उदाहरण के लिए ऐश्वर्या राय और अभिषेक बचन जो की मंगलीक है इसने विवाह से पहले कुज्ज विवाह सम्पन किया गया था उसके बाद उनका विवाह हुआ ||  ये दोनों ही एक कामयाब इंसान है ऐश्वर्या राय दुनिया की सबसे खूबसूरत अभिनेत्री है और इसको विश्व सुंदरी का परुष्कार मिला है यह आज की सबसे सफल इंसान है ।।

 

क्या मांगलिक दोष से विवाहिक जीवन में परेशानियां आती है ??

 

हाँ मंगलीक दोष से विवाहिक जीवन में परेशानियाँ आती है पर इन परेशानियों को दूर करने के लिए कुछ उपाय है जो आपके विवाहिक जीवन की परेशानियाँ दूर हो जाती है इस दोष वाले व्यक्तियों को हर मंगलवार के दिन उपवास रखना चाहिए और साथ में हनुमान चालीसा का जाप भी करना चाहिए  इस से मंगलीक दोष को काम होता है ।।

 

|| अगर आपका कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है ||

 

error: Content is protected !!
Subscribe To Our Newsletter
Subscribe To Our NewsletterJoin our mailing list to receive the latest news and updates from our team.

You have Successfully Subscribed!

Pin It on Pinterest