Diwali Puja

||Method to perform Lakshmi Puja on Diwali||

 

Place the given material on the wooden Puja Chowki:-

 

Idols of Goddess Lakshmi and God Ganesha, two large earthen lamps one Kalash on which coconut can be placed.

 

Make nine heaps of Rice in front of the idol of Goddess Lakshmi and make sixteen heaps of Rice in front of the idol of lord Ganesha, one silver coin, Accounts book, pen, some cash, three plates and one utensil with water.

perform Lakshmi Puja on Diwali

How to get ready ?

 

1. Place the idols of Lakshmi ji and Ganesh ji so that they must be facing towards East or West direction and Lakshmi should be placed in the Right hand side of lord Ganesha.

 

2. Worshippers must sit in front of the idols and place the Kalash on heaps of Rice.

 

3. Cover the Coconut in red cloth in such way so that its head remains uncovered and place it on the Kalash it is the symbol of lord Varun.

 

4. Now fill one earthen lamp with Ghee and another one with oil. Place one lamp on the right side of the Chowki and one in front of the feet of idols.

 

||To know about Dashansh Homan Click Here||

 

5. Light small Lamp in front of Ganesh ji also.

 

6. Now place a small Chowki in front of the idols and cover it with red cloth.

 

7. Take some rice in your hands and make nine heaps on the red cloth near the Kalash.

 

8. Make sixteen heaps of rice near lord Ganesha.

 

9. Between the nine heaps and sixteen heaps draw the sign of Swastik.

 

10. Place Betel nut (Supari) at the centre of Swastik and make one heap of Rice on all its four corners.

 

11. Place three Plates and Kalash full of water in the front of small Chowki.

 

Arrange the Plates in the following manner:

 

Place the material in plates in the given method:

 

Keep eleven lamps in one Plate and Parched Paddy (Kheel), Sugar cakes (Batasha), Sweets, Cloth, Jewellery and Paste of Sandalwood (Chandan), Vermillion, Kumkum, Betel nut and Paan and in other plate put some flowers, Bermuda grass (Druva), Rice, Cloves, Cardamom, Saffron and (Kapur) Camphor, Turmeric and Slaked lime (Choona) paste, Dhoop, Incense and one lamp in other Plate.

 

Sit before the Plates and let your family members sit on your left hand side and all other relatives should sit behind them.

 

Detailed method of Puja:

 

1. Take some water from the Puja material and then sprinkle it on the idols and recite the given Mantra.

 

2. By using Mantra and the water make yourself, Puja material and the place auspicious

 

Om Pavitro Apavitro Wa Sarvasthanganto Piva||
Ya Samret Pundrikanksh Sa Bhavyantar Shuchi||
Prithviti Mantrasya Meruprashtha Ga Shi Suntal Chhand||
Kurmodevata Aasane Viniyog||

 

3. For the purification of the Place where you are going to perform Puja and your Aasan bow head before the Goddess Prithvi and recite the given Mantra:

 

Om Prithvi Tvaya Dhrita Loka Devintav Vishnuna Dhrita||
Tvan Cha Dharya Maa Devi Pavitra Kurun Chaasnam||
Prithviye Namah Aadharshaktiye Namah||

 

4. Now perform Aachman and put one drop of water in your mouth with the help of flower, spoon or with your hand and recite:

 

Om Keshawaye Namah||

 

5. Now again take drop of water in your mouth and recite:

 

Om Naranaye Namah||

 

6. Then again take drop of water in your mouth and now recite:

 

Om Vasudevaye Namah||

 

7. Now recite Om Rishikeshaye Namah|| and then wipe your lips with your thumb and wash your hands.

 

||You Have Any Problem in love than Click here||

 

8. Mark Tilak on forehead of all present there.

 

9. Now after Aachman close your eyes and take three deep breathes and forget all the thoughts from your mind.

 

10. Now take resolution (Sankalp) for Puja.

 

How to take resolution for Puja?

 

1. Take some Rice, flower, some money and water in your hands.

 

2. After taking all these things in your hands then say:

 

Mai Amuk vyakti Amul sthan par Amuk Devi ki Puja karne jar aha hu.

 

3. And I must get all the blessings for Puja.

 

4. Then put the material on the Chowki.

 

5. First of all worship Lord Ganesh and Goddess Gauri and then for Varun Puja worship the Kalash.

 

6. Take some water in your hands than recite the Aahvan and Poojan Mantra while making the offerings of Puja material. Then Worship nine heaps of Rice because these are the symbols of nine Planets.

 

7. Now worship sixteen Heaps of Rice those are the symbol of sixteen forms of Goddess Bhagvati.

 

8. Take flower and Gandh in your hand take blessings form all sixteen goddesses and make offering of Puja material.

 

9. After worshipping sixteen goddesses then make offering of Mouli (red cotton thread) in front of God Ganesh.

 

||Pandit Rk Shastri has been awarded 3 times as the Best astrologer in Hyderabad To know click here||

 

10. Also get it tied on your hand and then mark Tilak on your forehead.

 

11. Now without any fears and with happy heart start the Aarti of Maa Lakshmi.

 

12. Now distribute sweets to everybody as Prasad.

 

||Read Above Paragraph In Hindi||

 

|| दीपावली पर लक्ष्मी पूजन की विधि||

 

चौकी के ऊपर इस सामान को रखे :-लक्ष्मी, गणेश, मिट्टी के दो बड़े दीपक,कलश, जिस पर नारियल रख सके. :-

 

नौ ढेरियां ( चावल ) व सोलह ढेरियां ( चावल ), चांदी का सिक्का, बहीखाता, कलम, नकदी, तीन थालियां ,जलका पात्र

perform Lakshmi Puja on Diwali

कैसे करें तैयारी :-

 

1. चौकी पर लक्ष्मी व गणेश की मूर्तियां इस प्रकार रखें कि उनका मुख पूर्व या पश्चिम में रहे । लक्ष्मीजी,गणेशजी की दाहिनी ओर रहें ।

 

2. पूजनकर्ता मूर्तियों के सामने की तरफ बैठें । कलश को लक्ष्मीजी के पास चावलों पर रखें ।

 

3. नारियल को लाल वस्त्र में इस प्रकार लपेटें कि नारियल का ऊपर का भाग दिखाई देता रहे व इसे कलश परखें । यह कलश वरुण का प्रतीक है ।

 

4. दो बड़े दीपक रखें। एक में घी भरें, दूसरे में तेल। एक दीपक चौकी के दाईं ओर , दूसरा मूर्तियों के चरणों में ।

 

5. और एक छोटा दीपक गणेशजी के पास रखें ।

 

||हमारे फेसबुक पेज के लिए करे क्लिक यहाँ ||

 

6. मूर्तियों वाली चौकी के सामने छोटी चौकी पर लाल वस्त्र बिछाएं |

 

7. कलश की ओर एक मुट्ठी चावल से लाल वस्त्र पर नौ ढेरियां बनाएं ।

 

8. गणेशजी की ओर चावल की सोलह ढेरियां बनाएं ।

 

9. नौ ढेरियां व सोलह ढेरियां के बीच स्वस्तिक का चिह्न बनाएं ।

 

10. स्वस्तिक के बीच में सुपारी रखें व चारों कोनों पर चावल की ढेरी ।

 

11. छोटी चौकी के सामने तीन थाली व जल भरकर कलश रखें।

 

थालियों की निम्नानुसार व्यवस्था करें :-

 

तीनो थालियो में इस तरह से सामान रखें…

पहली में ग्यारह दीपक दूसरी में खील, बताशे, मिठाई, वस्त्र, आभूषण, चन्दन का लेप, सिन्दूर, कुंकुम, सुपारी,पान
तीसरी में फूल, दुर्वा, चावल, लौंग, इलायची, केसर-कपूर, हल्दी-चूने का लेप, सुगंधित पदार्थ, धूप, अगरबत्ती,एक दीपक ।

 

इन थालियों के सामने आप बैठे । आपके परिवार के सदस्य आपकी बाईं ओर कोई मेहमान हो तो वह आपके परिवार के सदस्यों के पीछे बैठे |

 

पूजा की संक्षिप्त विधि:-:

 

1. आप हाथ में पूजा के जलपात्र से थोड़ा सा जल लें और अब उसे मूर्तियों के ऊपर छिड़कें, साथ नीचे दिए हुये मंत्र पढ़ें ।।

 

2. मंत्र और पानी को छिड़ककर आप अपने आपको, पूजा की सामग्री को और अपने आसन को भी पवित्र कर लें |

 

ॐ पवित्रः अपवित्रो वा सर्वावस्थांगतोऽपिवा।
यः स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स वाह्यभ्यन्तर शुचिः॥
पृथ्विति मंत्रस्य मेरुपृष्ठः ग षिः सुतलं छन्दः
कूर्मोदेवता आसने विनियोगः॥

 

3. अब पृथ्वी पर जिस जगह आपने आसन बिछाया है, उस जगह को पवित्र कर लें और मां पृथ्वी को प्रणामकरके मंत्र बोलें :-

 

ॐ पृथ्वी त्वया धृता लोका देवि त्वं विष्णुना धृता।
त्वं च धारय मां देवि पवित्रं कुरु चासनम्॥
पृथिव्यै नमः आधारशक्तये नमः…

 

4. अब आचमन करें, पुष्प, चम्मच या अंजुलि से एक बूंद पानी अपने मुंह में छोड़िए और बोलिए |

 

|| ॐ केशवाय नमः ||

5. फिर एक बूंद पानी अपने मुंह में छोड़िए और बोलिए |

 

ॐ नारायणाय नमः ||

 

6. फिर एक तीसरी बूंद पानी की मुंह में छोड़िए और बोलिए |

 

ॐ वासुदेवाय नमः

 

7. फिर ॐ हृषिकेशाय नमः
कहते हुए हाथों को खोलें और अंगूठे के मूल से होंठों को पोंछकर हाथों को धो ले |

 

8. सब को तिलक करे |

 

||अगर आप ज्योतिषशास्त्र से जुड़ि कोई भी विडियो देखने चाहते तो हमारे यूट्यूब चैनल के लिए करे क्लिक यहाँ||

 

9. आचमन आदि के बाद आंखें बंद करके मन को स्थिर कीजिए और तीन बार गहरी सांस लीजिए ।

 

10 फिर पूजा का संकल्प करे |

 

कैसे करे संकल्प :-

 

1. आप हाथ में चावल लें, पुष्प और जल लीजिए कुछ धन भी लीजिए ।

 

2. ये सब हाथ में लेकर बोले कि मैं अमुक व्यक्ति अमुक स्थान व समय पर अमुक देवी-देवता की पूजा करने जा रहा हूं |

 

3. जिससे मुझे शास्त्रोक्त फल प्राप्त हों ।

 

4. बाद में ये सामान चौकी पे रख दे |

 

5. सबसे पहले गणेशजी व गौरी का पूजन कीजिए । उसके बाद वरुण पूजा यानी कलश पूजन करनी चाहिए |

 

6. हाथ में थोड़ा सा जल लीजिए और आह्वान व पूजन मंत्र बोलिए और पूजा सामग्री चढ़ाइए, फिर नवग्रहों (नोचावलो की ढेरि) का पूजन कीजिए |

 

7. इसके बाद भगवती षोडश मातृकाओं (सोलह चावलो की ढेरि ) का पूजन किया जाता है |

 

8. हाथ में गंध, अक्षत, पुष्प ले लीजिए। सोलह माताओं को नमस्कार कर लीजिए और पूजा सामग्री चढ़ा दीजिए |

 

9. सोलह माताओं की पूजा के बाद रक्षाबंधन होता है। रक्षाबंधन विधि में मौली लेकर भगवान गणपति पर चढ़ाइए |

 

10. फिर अपने हाथ में बंधवा लीजिए और तिलक लगा लीजिए |

 

11. अब आनंद चित्त से निर्भय होकर महालक्ष्मी की आरती प्रारंभ कीजिए |

 

12. आखिर में प्रसाद व मिठाई सब को बाँट दे |

 

You may also like

Pandit R.K. Shastri
Mob:  +91 9814164256 

Email: info@panditrkshastri.com